पूरा नाम (हिंदी में) डॉ. धनजी प्रसाद
 
पूरा नाम (अग्रेजी में) DHANJEE PRASAD
पिता/पति का नाम SHREE SHIVNARAYAN PRASAD
माता का नाम SHRIMATI INDRAWATI DEVI
जन्म तिथि 20/12/1988
पदनाम असिस्टैंट प्रोफेसर
पता/ सम्पर्क

धनजी प्रसाद

भाषा प्रौद्योगिकी विभाग

म.गा.अं.हिं.वि., वर्धा

महा. 442001

(off) (res) dhpr.langtech@gmail.com
वेब पृष्ठ
विभाग भाषा विज्ञान एवं भाषा-प्रौद्योगिकी विभाग
वेतन विवरण
शैक्षिक योग्यता

एम.ए. हिंदी (भाषा प्रौद्योगिकी)

एम.फिल. हिंदी (भाषा प्रौद्योगिकी)

पी-एच.डी. हिंदी (भाषा प्रौद्योगिकी)

कैरियर प्रोफाइल

असिस्टैंट प्रोफेसर, भाषा प्रौद्योगिकी विभाग

(13-08-2012 से ...)

प्रशासनिक अनुभव
विशेषज्ञता

प्राकृतिक भाषा संसाधन 

हिंदी से संबंधित सॉफ्टवेयर विकास

रूपविज्ञान, वाक्यविज्ञान, अर्थविज्ञान 

पढाया गया विषय

भाषा : आधारभूत अवधारणाएँ

आरंभिक भाषा प्रौद्योगिकी

सी.शार्प प्रोग्रामिंग

प्राकृतिक भाषा संसाधन

अर्थविज्ञान 

भाषाविज्ञान की शोध प्रविधि

भाषा शिक्षण

शोध मार्गदर्शक

एक पी-एच.डी. और एक एम.फिल शोधार्थी शोधरत।

 सत्र 2012-13 में 3 एम.फिल. शोधार्थियों का सह-शोध निर्देशन

प्रकाशन वर्णन

पुस्तक

प्रकाशित -

  • (2014) ‘कार्पस भाषाविज्ञान (Corpus Linguistics) प्रिय साहित्य सदन, सोनिया विहार, दिल्ली,  ISBN : 978-93-82699-06-4
  • (2014) ‘परिचयात्मक जापानी भाषा (Introductory Japanese Language), प्रिय साहित्य सदन, सोनिया विहार, दिल्ली, 2014, ISBN : 978-93-82699-05-7
  • (2012) ‘सी. शार्प प्रोग्रामिंग और हिंदी के भाषिक टूल्स (C# Programming and Linguistic tools of Hindi) प्रकाशन संस्थान, अंसारी रोड, दरियागंज, नई दिल्ली, 2012, ISBN : 978-81-7714-459-8
  • (2011) ‘भाषाविज्ञान का सैद्धांतिक, अनुप्रयुक्त एवं तकनीकी पक्ष (Theoretical, Applied and Technological Aspects of Linguistics), प्रिय साहित्य सदन, सोनिया विहार, दिल्ली, 2011, ISBN : 978-81-88705-34-4                                                                                     

अध्याय

  • सामान्य भाषा व्यवहार और साहित्य में शैली वैविध्य’ (पृ.131-137) ‘शैलीविज्ञान : एक विश्लेषणात्मक दृष्टि’ में पृ. 131-137, संपादक- प्रो. शारदा चतुर्वेदी (2015), वाराणसी : भारतीय विद्या संस्थान। ISBN : 978-93-81189-45-0
  • न्यूरोभाषाविज्ञान’,भाषा का अनुप्रयुक्त पक्ष’ में (पृ.63-68), संपादक- डॉ. शेख अ.अब्दुलरज्जाक (2014) भाषा का अनुप्रयुक्त पक्ष, प्रवर्तन पब्लिकेशन लातूर। ISBN – 978-93-84572-06-8
  • नृतत्ववैज्ञानिक भाषाविज्ञान’,भाषा का अनुप्रयुक्त पक्ष’ में (पृ. 72-75), संपादक- डॉ. शेख अ.अब्दुलरज्जाक (2014) प्रवर्तन पब्लिकेशन लातूर। ISBN – 978-93-84572-06-8

Proceedings

  • ‘कुशल : हिंदी वर्तनी जाँचक (यूनिकोड हेतु)’सूचना प्रौद्योगिकी : कल, आज और कल’ में (पृ. 108-112), संपादक- सुरेश कुमार जिंदल (2014), फूलदीप कुमार, प्रकाशक : रक्षा मंत्रालय, डी.आर.डी.ओ., मेटकॉफ हाउस, दिल्ली। ISBN – 978-81-86514-68-9

शोध-पत्र/आलेख

  • डिजिटल इंडिया : सूचना प्रौद्योगिकी में भारत के बढ़ते कदम (पृ. 15-17) आलेख ‘विज्ञान आपके लिए’ पत्रिका, ISSN: 2321-5321 वर्ष 15, अंक 4 (अक्टूबर-दिसंबर, 2015) में प्रकाशित, मुख्य संपादक : डॉ. ओउम प्रकाश शर्मा, लोक विज्ञान परिषद, गाजियाबाद।
  • नियम-आधारित हिंदी व्याकरण जाँचक : स्वरूप और प्रक्रिया (पृ. 40-45) आलेख ‘मीडिया पथ (अंतरानुशासनिक शोध पर केंद्रित त्रैमासिक पत्रिका) ISSN: 2454-227X, वर्ष- 01, अंक- 02 अक्टूबर-दिसंबर 2015 में प्रकाशित, संपादक : बलराम बिंद, बलिया, उ.प्र.।
  • डिजिटल इंडिया में भाषा प्रौद्योगिकी का महत्व (पृ. 41-43) आलेख ‘निमित्त’ त्रैमासिक ई-पत्रिका वर्ष-1 अंक-3 में प्रकाशित, प्रकाशक : महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा।
  • स्वनिम सिद्धांत (पृ. 58-60) आलेख ‘SHODH PRERAK ISSN 2231-413X, Vol. V, Issue 3& 4, July & October, 2015 में प्रकाशित, मुख्य संपादक : Dr. Shashi Bhushan Poddar, वीर बहादुर सेवा संस्था, लखनऊ।
  •  ‘हिंदी आ भोजपुरी में सर्वनाम आ परसर्ग (पृ. 85-87) आलेख ‘समकालीन भोजपुरी साहित्य’ (विश्व भोजपुरी सम्मेलन के तिमाही मुखपत्र) अंक : 33, 2015 में प्रकाशित, प्रधान सं. अरुणेश नीरन, अंतरराष्ट्रीय भोजपुरी सचिवालय (राष्ट्रीय इकाई) देवरिया, उ.प्र. । 
  • देश का आर्थिक विकास और भारतीय भाषाएँ (पृ. 125-130) आलेख SHANTI : E JOURNAL OF RESEARCH (Multi Disciplinary and Peer-Reviewed Research Journal in India) ISSN : 2278-4381, IMPACT FACTOR : 3.72, निदेशक : डॉ. तेजपाल सिंह हूडा। लिंक : http://www.shantiejournal.com/
  • हिंदी में विभक्ति और परसर्ग सहलेखक : प्रवीण कुमार पाण्डेय,  निमित्त : ई-पत्रिका, प्रवेशांक 2015 (पृ. 07-08), प्रकाशक : महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा।
  • हिंदी में क्रिया संदिग्धार्थकता वैचारिकी (अंक सितंबर 2014, Vol.-IV, Issue - 3) ISSN – 2249-8907 में प्रकाशित(पृ.136-140), संपादक. डॉ. मनोज कुमार, संस्कृत विभाग, बाबासहब अंबेडकर बिहार विश्वविद्यालय, मुज्जफरपुर।
  • हिंदी में संज्ञा-संज्ञा संबंध और कंप्यूटर में ज्ञान-निरूपण शोध प्रेरक (अंक जुलाई 2013, Vol.-III, Issue – 3) ISSN – 2231-413X में प्रकाशित (पृ.34-38)। प्रकाशक – वीर बहादुर सेवा संस्था लखनऊ।
  •  ‘हिंदी में ज्ञान-विज्ञान तथा तकनीकी जिज्ञासा (An Interdisciplinary Refereed Research Journal), में प्रकाशित, प्रधान सं. इंदुकांत दीक्षित, वाराणसी, ISSN: 0974-7648, सहलेखक: प्रवीण पाण्डेय एवं रणजीत भारती। 
सम्मेलन और अध्ययन गोष्ठी का आयोजन
  • भाषाविज्ञान एवं भाषा प्रौद्योगिकी विभाग, म.गां.अं.हिं.वि., वर्धा में ‘भाषा प्रौद्योगिकी के संवर्धन की चुनौतियाँ   (Challenges in Promoting Language Technology in Hindi) विषय पर 28-30 मार्च 2016 को आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में संयोजक का कार्य।
  • भाषा-प्रौद्योगिकी विभाग म.गां.अं.हिं.वि., वर्धा द्वारा आयोजित ‘प्राकृतिक भाषा संसाधन पर एक सप्ताह की कार्यशाला’ (15-19 जनवरी 2015) का संयोजन।
  • भाषा-प्रौद्योगिकी विभाग की भित्ति पत्रिका ‘प्रयास’ का संयोजन (2014-15)।
अनुसन्धान परियोजना

1.      01-10-2014 से म.गां.अं.हिं.वि.वि., वर्धा की शोध योजना के अंतर्गत में हिंदी टैग्ड लघु-कार्पस निर्माण शोधकार्य पूर्ण।

2. 'हिंदी नामपद अभिज्ञानक' विषय पर मेजर रिसर्च प्रोजेक्ट हेतु प्रस्ताव यू.जी.सी. को प्रेषित।

पुरस्कार

एम.. में स्वर्ण पदक एवं प्रथम स्थान।

एम.फिलमें स्वर्ण पदक एवं प्रथम स्थान।

व्यावसायिक संगठनों के साथ एसोसिएशन
अतिरिक्त गतिविधि

सॉफ्टवेयर विकास                                                                                                                                   

  • आचार्य : हिंदी व्याकरण जाँचक (AACHARYA : Hindi Grammar Checker)
  • कुशल : हिंदी वर्तनी जाँचक (यूनिकोड हेतु) (KUSHAL : Hindi Spell Checker)
  • हिंटै : संदर्भ-मुक्त पी.ओ.एस टैगर (HINTAI : Context-Free POS Tagger)
  • रूपविश्लेषक : रूपवैज्ञानिक रूप विश्लेषक (ROOPVISHLESHAK : Morphological Form Analyzer)
  • रूपसर्जक : रूपवैज्ञानिक रूप प्रजनक (ROOPSARJAK : Morphological Form Generator)
  • अन्वेषक : कोशीय इकाई (कोशिम) प्राप्तकर्ता (ANVESHAK : Lexical Entry (Lexeme) Finder)
  • शोधक : हिंदी पाठ मानककर्ता (SHODHAK : Hindi Text Standardizer)
  • अंतरक : देवनागरी रोमन लिप्यंतरण प्रणाली (ANTARAK : Devanagari Roman Transliteration System)
  • खोजी : संदर्भ में शब्द प्राप्तकर्ता (KHOJEE : Keyword in context Founder)
  • सामान्यक : विराम चिह्न सामान्यीकारक (SAMANYAK : Punctuation Mark Normalizer)
  • गणक : शब्द आवृत्ति गणक (GANAK : Word Frequency Counter)

विशेषज्ञ व्याख्यान         

  • महात्मा गांधी ग्रामीण औद्योगीकरण संस्थान, वर्धा द्वारा सितंबर 2016 में आयोजित हिंदी पखवाड़ा में 15 सितंबर 2016 को ‘हिंदी और तकनीकी’  विषय पर व्याख्यान ।
  • कन्हैयालाल मणिकलाल मुंशी हिंदी तथा भाषाविज्ञान विद्यापीठ, डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय, आगरा में 25 अप्रैल से 01 मई 2016 तक ‘हिंदी का राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय परिदृश्य’ विषय पर आयोजित कार्यशाला में 27 अप्रैल 2016 को ‘भाषा प्रौद्योगिकी और हिंदी सॉफ्टवेयर’ विषय पर विशेष व्याख्यान ।
  • हिंदी  विभाग, चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ में आयोजित त्रिदिवसीय (12-14 मार्च 2016) राष्ट्रीय संगोष्ठी 'साहित्येतर हिंदी लेखन एवं सूचना प्रौद्योगिकी' के सातवें सत्र ‘साहित्येतर हिंदी लेखन में  सूचना प्रौद्योगिकी की भूमिका’ में वक्तव्य।
  • हिंदी और संगणक : वर्तमान स्थिति और संभावनाएँ’ विषय पर कर्मवीर भाऊराव पाटील महाविद्यालय, पंढरपुर (सोल्हापुर, महा.) में 14-15 फरवरी 2014 को आयोजित ‘हिंदी साहित्य मूल्य और उपयोगिता’ विषयक द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के छ्ठवें सत्र में वक्तव्य ।

 

प्रपत्र प्रस्तुति

  • हिंदी में योजक संदिग्धार्थकता और विसंदिग्धीकरण विषयक शोधपत्र प्रौद्योगिकी अध्ययन केंद्र एवं कंप्यूटेशनल भाषाविज्ञान विभाग, म.गां.अं.हिं.वि., वर्धा द्वारा ‘प्राकृतिक भाषा संसाधन :हिंदी एवं अन्य भारतीय भाषाओं के नवीन पक्षों के संदर्भ में (Modern Perspectives of NLP for Hindi & Other Indian Languages) विषय पर 17-19 अगस्त 2016 को आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रस्तुत।
  • हिंदी व्याकरण जाँचक : निर्माण एवं चुनौतियाँ विषय पर शोधपत्र भाषा प्रौद्योगिकी विभाग, म.गां.अं.हिं.वि., वर्धा में ‘भाषा प्रौद्योगिकी के संवर्धन की चुनौतियाँ   (Challenges in Promoting Language Technology in Hindi) विषय पर 07-09 अप्रैल 2016 को आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रस्तुत।
  • आधुनिक भारत में बदलते मूल्य और बदलती भाषा प्रपत्र, 29-30 मार्च 2015 को मनोविज्ञान विभाग, म.गां.अं.हिं.वि., वर्धा में ‘आधुनिक जीवन में मूल्य संकट : समाज-वैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य और हस्तक्षेप’ विषय पर आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रस्तुत।
  • भारत में आंतरिक प्रव्रजन और भाषा समस्या विषय पर प्रपत्र, 22-23 मार्च 2015 को अटल बिहरी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय, भोपाल में ‘मानव प्रव्रजन की समस्याएँ और वंशावली लेखन विषय पर आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रस्तुत।
  • हिंदी: भूत, वर्तमान और भविष्य शीर्षक से कर्मवीर भाऊराव पाटील महाविद्यालय, पंढरपुर (सोल्हापुर, महा.) में 14-15 फरवरी 2014 को ‘हिंदी साहित्य मूल्य और उपयोगिता’ विषय पर आयोजित द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में शोध-पत्र प्रस्तुत।
  • संचार माध्यमों में अनुवाद की भूमिका (Role of Translation in Communication Mediums) प्रपत्र शासकीय कन्या महाविद्यालय, बीना (जिला-सागर) द्वारा आयोजित संचार क्रांति; बदलता व्यापक परिदृश्य विषय पर द्विदिवसीय संगोष्ठी (21-22 मार्च, 2012) में प्रस्तुत एवं सहभागिता।
  • संचार क्रांति में SMS एवं इसका भाषिक परिदृश्य (SMS in Communication Revolution and its Linguistic Aspect) प्रपत्र, शासकीय कन्या महाविद्यालय, बीना (जिला-सागर) द्वारा आयोजित ‘संचार क्रांति; बदलता व्यापक परिदृश्य’ विषय पर द्विदिवसीय संगोष्ठी (21-22 मार्च, 2012) में प्रस्तुत एवं सहभागिता।
  • हिंदी में पुनरुक्त शब्द: संरचनात्मक एवं आर्थी वैविध्य (Reduplicated Words in Hindi: Structural and Semantic Variety) प्रपत्र, भाषा विद्यापीठ, म.गां.अं.हिं.वि., वर्धा द्वारा ‘भाषाविज्ञान और भाषा प्रौद्योगिकी: सांप्रतिक विमर्श के विविध आयाम’ विषय पर आयोजित त्रिदिवसीय संगोष्ठी (22-24 फरवरी, 2012) में प्रस्तुत एवं सक्रिय सहभागिता।
  • एस.एम.एस. : संप्रेषण का एक नया आयाम एवं इसका भाषिक पक्ष (भारत में रोमन लिपि में एस.एम.एस. लेखन के विशेष संदर्भ में) (SMS: A New Mode Of Communication and its Linguistic Aspects: with Special Reference to SMS Writing in India in Roman Script) प्रपत्र, म.गां.अं.हिं.वि., वर्धा द्वारा आयोजित ‘XXXV INDIAN SOCIAL SCIENCE CONGRESS’ (27th से 31st दिसंबर, 2011) में प्रस्तुत एवं सक्रिय सहभागिता।
  • हिंदी में बहुशब्दीय अभिव्यक्तियाँ और उनका शब्द-भेद वर्गीकरण (Multi-word Expressions in Hindi and their PoS Classification) प्रपत्र, अंग्रेजी एवं संस्कृति अध्ययन केंद्र, पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ द्वारा आयोजित 33वें AICL (1 से 3 अक्टूबर, 2011) में प्रस्तुत एवं सहभागिता।
  •  ‘Applied Areas of Linguistics (With Special Reference to Technological Applications’ प्रपत्र, अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान एवं अनुवाद अध्ययन केंद्र, हैदराबाद विश्वविद्यालय द्वारा न्यूरल एवं संज्ञानात्मक विज्ञान केंद्र, तथा भारतीय भाषा संस्थान (CIIL), मैसूर के साथ, आयोजित पंचम Students’ Conference of Linguistics in India’- SCONLI-5, (21 – 23 फरवरी, 2011) में प्रस्तुत एवं सहभागिता।
  • ‘Language Contact between Human and Machine’ प्रपत्र, भारतीय भाषा संस्थान (CIIL), मैसूर द्वारा आयोजित Workshop/Refresher Course on Language Contact in South Asia’ (10 से31 जनवरी, 2011) में प्रस्तुत।